BREAKING NEWS
Search
जमीन

बनारस में किये गये IED ब्लास्ट का खुलासा, पिता-पुत्र की हुई थी दर्दनाक मौत

464

जमीन के विवाद में की गई थी बम धमाका करके बाप-बेटे की हत्या, हत्यारा ITI से मैकेनिकल ट्रेड का डिप्लोमाधारक है…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: चौबेपुर के मिल्कोपुर गांव में आईईडी ब्लास्ट कर व्यापारी पिता-पुत्र की हत्या के मामले का वाराणसी पुलिस नें सफ़लतापूर्वक खुलासा कर दिया है। नामजद आरोपी लखरांव के मुन्नीलाल यादव व उसके बेटे सोनू और चौक के ठठेरी बाजार के किरनचंद वर्मा को गिरफ्तार कर सोमवार को जेल भेजा गया।

पिता-पुत्र की हत्या जमीन विवाद की रंजिश में की गई और इसके लिए किरनचंद ने अपने फार्म हाउस की देखरेख करने वाले मुन्नीलाल व सोनू को सड़क किनारे की दो बीघा जमीन देने का लालच दिया था।

सोनू के घर से कॉपर का तार, बैटरी, इलेक्ट्रिक फ्यूज, मुन्नीलाल की साइकिल और वारदात में प्रयुक्त दो मोबाइल बरामद किए गए। विस्फोटक पदार्थ से धमाका करने के मामले में तीनों आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

किरनचंद के परिवार के तीन अन्य नामजद प्रतीक, विपिन चंद और विनोद चंद की भूमिका की पुलिस जांच कर रही है। वारदात के मास्टर माइंड सोनू को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ करने के लिए चौबेपुर पुलिस की ओर से अदालत में आवेदन दाखिल किया जाएगा।

28 अगस्त की आधी रात बाद घर पर सोए मिल्कोपुर निवासी खली-चूनी व्यापारी लालजी यादव और उनके बेटे अजय की विस्फोटक पदार्थ से धमाका कर हत्या की गई थी।

एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि वारदात के खुलासे के लिए एसपी ग्रामीण अमित कुमार और एसपी क्राइम ज्ञानेंद्र नाथ प्रसाद के नेतृत्व में नौ टीम गठित की गई। वादी श्यामजी और ग्रामीणों ने बताया कि लालजी के घर के पीछे वर्मा परिवार का 10 बीघा का फार्म हाउस है और इसकी देखरेख मुन्नीलाल करता था।

लालजी की 10 फुट जमीन पर किरनचंद ने कब्जा कर लिया था। इसी तरह से अन्य लोगों की एक बीघा जमीन पर किरनचंद का कब्जा था और इस लड़ाई का नेतृत्व लालजी कर रहे थे। इस जमीन पर कब्जा छोड़ने से किरनचंद की जमीन की ओेर जाने वाला रास्ता संकरा हो जाता और प्लाट का नक्शा बिगड़ जाता।

किरनचंद ने मुन्नीलाल और अजय को लालच दिया कि अगर वे रास्ते से लालजी को हटा दें तो सड़क किनारे की दो बीघा जमीन उन्हें दे देगा। मैकेनिकल ट्रेड से आईटीआई उत्तीर्ण सोनू ने मिर्जापुर में पत्थर खदान में काम करने वाले दोस्त से तीन डेटोनेटर फ्यूज लिया।

23 अगस्त की आधी रात बाद किरनचंद के फार्म हाउस में उसका ट्रायल किया गया और सब कुछ सही रहने पर पिता-पुत्र ने सुनियोजित तरीके से वारदात को अंजाम दिया। एसएसपी ने कहा कि तीनों आरोपियों को सर्विलांस, साक्ष्यों और तथ्यों के आधार पर जेल भेजा जा रहा है। अन्य तीन नामजद की भूमिका की जांच जारी है। साक्ष्य मिलते ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।