BREAKING NEWS
Search
road

शहर में सड़कों पर अतिक्रमण, प्रशासन बना मूकदर्शक

430
Share this news...

सौरव सक्सेना की रिपोर्ट,

विदिशा (गंजबासौदा)। नगर की सड़कों पर अवैध रूप से हो रहे अतिक्रमण से हर कोई व्यथित है, पर नगर का प्रशासन कुंभकर्णी नींद में सोया हुआ नजर आ रहा है। जिससे लगता है कि नगर में अतिक्रमणता बेख़ौफ़ है और नगर में प्रशासन नाम की कोई व्यवस्था है ही नहीं।

आज नगर के अभिभाषकों द्वारा प्रशासन को कोर्ट के पीछे वाले दरवाजे त्योंदा रोड पर अनावश्यक मोटरसाइकिलों के ख़ड़े होने से वहाँ से निकलने वाले राहगीरों और छोटे-बड़े वाहन चालकों को होने वाली परेशानीयों से अवगत कराते हुए एसडीएम सीपी गौहल को ज्ञापन सौपते हुए 3 दिवस में समस्या का समाधान न होने पर प्रशासन के खिलाफ धरने पर बैठने की चेतावनी दी। लेकिन संघ की चेतवानी का असर ये रहा कि ज्ञापन के कुछ की घन्टे बाद ट्राफिक पुलिस ने त्योंदा रोड पर खड़े वाहनों पर कार्यवाही आरंभ कर दी।

अभिभाषक संघ ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि कोर्ट के पीछे वाले दरवाजे त्योंदा रोड पर अनावश्यक मोटरसाइकिल खड़ी रहती है। जिससे उस गेट से निकल कर कोर्ट में आने वाले पक्षकारों को तो परेशानी होती ही है। वहीं वहाँ से निकलने वाले राहगीरों और छोटे-बड़े वाहनों तथा मंडी में आने वाली टैक्टर-ट्रालियों से जाम की स्थिति भी निर्मित हो जाती है।

ज्ञात हो कि प्रशासन ने कोर्ट में आने वाले पक्षकारों को बैठने के लिए टीन शेड का निर्माण कराया था लेकिन कुंभकर्णी नींद में सोए प्रशासन की बजह से पूरे शेड पर चाय वालों ने बेवजह का कब्जा जमा लिया। जिससे त्योंदा रोड पर अनावश्यक लोगों की मोटरसाइकिलों का जमघट लगने से पूरी सड़क जाम हो जाती है। वहीं चाय वालों के टीन शेड कब्जे से पक्षकारों को बैठने तक जगह नहीं मिल पाती है।

ज्ञात हो कि पूर्व में एसडीएम तृप्ती श्रीवास्तव ने इस सड़क से यहाँ सभी तरह का अतिक्रमण हटवा दिया था पर प्रशासन को चिढ़ाते हुये बेखौफ अतिक्रमणकारियों ने फिर से शेड में अतिक्रमण कर लिया तो वहीं दुकान वालों ने सड़क तक सामान रख लिया है। जिससे सबसे व्यस्तम मार्ग पर फिर से जाम की समस्या बनने लगी है।

ज्ञात हो सड़कों पर लगने वाले जाम की स्थिति से निपटने के लिए पुलिस अधीक्षक ने नगर के लिए ट्रैफ़िक पुलिस की व्यवस्था की है लेकिन नगर के हालातों और नगर की सड़को तक व्यापारियों के पसरे अतिक्रमण से एवं कुंभकर्णी नींद में सोये स्थानीय प्रशासन का सहयोग न मिलने से ट्रैफिक पुलिस बल भी इस समस्या को दूर करने में असहाय नजर दिखाई दे रहा है।

आज हालांकि अभिभाषक संघ के ज्ञापन के बाद नींद से जागते हुए प्रशासन हरकत में आया और आनन-फानन में ट्रैफिक पुलिस ने वहाँ खड़ी मोटरसाइकिलों को वहां से हटवाया और कुछ मोटरसाइकिलों को ले जाकर थाने में खड़ी करवा दी। जहाँ उन्हें अंतिम समझाईस के बाद छोड़ दिया गया।

Share this news...