अतिक्रमणकारियों

देर रात सड़क पर उतरे कमिश्नर, डीएम, एसएसपी, नगर आयुक्त, वीडीए उपाध्यक्ष… अतिक्रमणकारियों पर आई आफत

132

मंगलवार देर रात पूरा प्रशासनिक अमला पुलिस प्रशासन के साथ बनारस की सड़कों पर उतर आया, जगह-जगह हो रहे विकास कार्यों की ज़मीनी हकीकत परखी और मातहतों की दी हिदायत…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: 28 अक्टूबर को वाराणसी में सभी प्रशासनिक अधिकारियों के साथ जिले में चल रही परियोजनाओं की समीक्षा बैठक योगी आदित्यनाथ नें की थी, शायद यह उसी का असर है कि अचानक जिले में अतिक्रमणकारियों के खिलाफ प्रशासन ने सख्त तेवर अख्तियार कर लिया। इसे लेकर कमिश्नर और जिलाधिकारी के नेतृत्व में जिले के सभी बड़े अफसरों ने देर रात तकरीबन 11 बजे शहर के विभिन्न इलाकों का ताबड़तोड़ दौरा किया। इस दौरान एक दुकानदार को अतिक्रमण और गंदगी करने के मामले जिलाधिकारी ने जेल भेजने का आदेश दे दिया। साथ ही 10 हजार का जुर्माना भी ठोंक दिया।

कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह, नगर आयुक्त, उपाध्यक्ष विकास प्राधिकरण तथा एसएसपी के साथ पूरे प्रशासनिक अमले नें आज शहर में चल रही परियोजनाओं एवं सफाई व्यवस्था का जायजा लेने रात्रि 11 बजे शहर में चक्रमण किया।

सबसे पहले तेलियाबाग तिराहे पर सड़क के किनारे अतिक्रमण कर लगाई गईं दुकानों एवं नालियों पर डब्बा आदि रखकर किए गए अतिक्रमण पर दुकानदारों को कड़ी फटकार लगाई।

इसके बाद एवं जिलाधिकारी का काफिला कबीर चौरा अस्पताल के पास रुका। सड़क पर जल निगम की पाइप को तुरंत लगाए जाने तथा क्षतिग्रस्त सड़क को मरम्मत कराए जाने का निर्देश दिया। कबीर चौरा अस्पताल के बगल में स्थित कूड़ा घर के पास बिखरे हुए कूड़े को देख मौके पर सफाई कराई जाने व कूड़े के लिए डस्टबिन का इंतजाम करने के लिये नगर आयुक्त को निर्देश दिया।

गोदौलिया चौराहे के पास जल निगम द्वारा लगाए जा रहे पेयजल पाइप लाइन एवं सड़क पर लगे हुए पंप के पाइप देख कमिश्नर ने जल निगम के अभियंताओं को मौके पर तलब किया। कमिश्नर ने गहरी नाराजगी जताते हुए जल निगम के अभियंताओं को कड़े निर्देश दिए की युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर गोदौलिया चौराहे के पास कराए जा रहे हैं कार्यों को पूरा करें। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

चितरंजन पार्क के पास शारदा भोजनालय द्वारा सड़क पर दुकान लगाकर गंदगी करने एवं अतिक्रमण के कारण प्रायः यातायात की समस्या पैदा होने की जानकारी पर कड़ी नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी ने दुकानदार को जमकर डांट पिलाई तथा 10 हजार का जुर्माना लगाते हुए थाना दशाश्वमेध को मौके पर बुलाकर बार-बार निर्देश के बावजूद अतिक्रमण करने से न माने जाने पर दुकानदार को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया।

निरीक्षण के दौरान गोदौलिया से दशाश्वमेध मार्ग के बीच में लगे डिवाइडर को हटाकर सड़क को सही कराए जाने का निर्देश दिया।

दशाश्वमेध घाट पर निरीक्षण के दौरान कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने चितरंजन पार्क के पास के अस्थाई अर्ध निर्मित सब्जी मंडी का भी निरीक्षण किया। कमिश्नर ने नगर आयुक्त को निर्देशित किया कि गंगा घाटों पर लगने वाले फ्लड लाइटों को शीघ्र लगवाएं।

उन्होंने घाटों पर लगाए गए विज्ञापनों को भी हटवाए जाने का निर्देश दिया। कमिश्नर नें देव दीपावली से पहले गंगा घाटों एवं घाट की ओर आने वाले मार्ग की समुचित एवं चाक-चौबंद सफाई सुनिश्चित कराए जाने के साथ ही प्रकाश व्यवस्था ठीक कराए जाने का निर्देश दिया। आज निरीक्षण के दौरान कमिश्नर एवं जिलाधिकारी पूरे तेवर में रहे। गंदगी के साथ साथ सड़क, अतिक्रमण, गंगा घाट पर इनकी पैनी नजर रही।

ज्ञात हो कि शनिवार को जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह नें दलबल के साथ दालमंडी मार्केट में औचक निरीक्षण किया था तथा कई अतिक्रमणकारियों के खिलाफ 20,000 से 50,000 रूपये तक का जुर्माना वसूलने का आदेश भी दिया था।