BREAKING NEWS
Search
Women

महिला सशक्तिकरण अधिकारी ने रोका बाल विवाह, बारात आने के कुछ घंटे ही पहले पहुंचा दल

302
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- जिला मुख्यालय से करीब 8 किमी दूर सतनरा पवाई गांव में यादव परिवार द्वारा की जा रही नाबालिग बच्ची की शादी पर महिला बाल विकास की टीम ने पहुंच कर रोक लगा दी है.

यादव परिवार द्वारा अपनी चौदह वर्ष की नाबालिक बच्ची की शादी सिंगरौली जिले के ग्राम ताल निवासी विश्वनाथ यादव के पुत्र शुभक के साथ तय की गई थी. विवाह की सारी तैयारियां पूर्ण कर ली गई थी और 6 मई सोमवार को बारात आनी थी.

यादव परिवार द्वारा विवाह की तैयारियों के साथ ही बारात के स्वागत की भी तैयारी की जा रही थी. इसी बीच सोमवार की दोपहर महिला बाल विकास विभाग की टीम को यह खबर मिली की सतनरा पवाई गांव निवासी यादव परिवार अपनी नाबालिग बच्ची की शादी कर रहा है, तो वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में महिला सशक्तीकरण अधिकारी प्रवेश मिश्रा टीम लेकर यादव परिवार के घर पहुंच गए.

चर्चा करने पर यादव परिवार ने बताया कि मेरी बच्ची 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुकी है, इस संबंध में कुछ दस्तावेज भी यादव परिवार द्वारा महिला बाल विकास की टीम के समक्ष प्रस्तुत किए गए. जिससे संतुष्ट होकर टीम वापस चली आई. लेकिन, महिला सशक्तिकरण अधिकारी को यह शंका थी कि यादव परिवार की बच्ची बालिग नहीं है और जो दस्तावेज उसके परिजनों द्वारा प्रस्तुत किए गए हैं वह संतोषकारक नहीं हैं.

जिस पर महिला सशक्तिकरण अधिकारी उस विद्यालय से संबंधित छात्रा के जन्मतिथि संबंधी दस्तावेजों की पड़ताल की गई. जहां वह अध्ययनरत थी. जिससे इस बात की पुष्टि हुई की छात्र अभी महज 14 वर्ष की ही है.

इस बात की पुष्टि होने के बाद महिला सशक्तिकरण अधिकारी प्रवेश मिश्रा पुन: ग्राम सतनरा पवाई पहुंचे और यादव परिवार को कानूनी प्रावधानों की जानकारी देते हुए समझाइस के साथ ही कड़ी चेतावनी भी दी, जिससे यादव परिवार नाबालिग बच्ची का विवाह न करने पर मान गए.

इसके बावजूद महिला सशक्तीकरण अधिकारी द्वारा यादव परिवार से इस बात का बाउंड भराया गया कि बच्ची का विवाह बालिग होने के बाद ही करेेंगे, इसके बाद महिला बाल विकास की टीम वापस आई और इस तरह एक बच्ची का बाल विवाह होते होते टल गया.

लाडो अभियान के अंतर्गत अक्षय तृतीया पर बाल विवाह रोकने दल गठित-

कलेक्टर अभिषेक सिंह ने मंगलवार मई को अक्षय तृतीया के अवसर पर संभावित बाल विवाह की रोकथाम के लिए अनुविभाग स्तरीय कोर ग्रुप का गठन किया है. प्रत्येक अनुविभाग स्तरीय कोर गु्रप के अध्यक्ष अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) एवं सदस्य अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस), मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, विकासखंड शिक्षा अधिकारी, विकासखंड चिकित्सा अधिकारी और बाल विकास परियोजना अधिकारी/विकासखंड महिला सशक्तिकरण अधिकारी हैं.

कलेक्टर ने बाल विवाह रोकने हेतु तहसील स्तर पर विशेष उडऩदस्तों का गठन किया है. तहसील गोपद बनास के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार गोपद बनास, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना सीधी क्रमांक-1 एवं सीधी क्रमांक-2 एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक, तहसील चुरहट के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार चुरहट, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना रामपुर नैकिन क्रमांक-2, बीडब्ल्यूईओ एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक, तहसील रामपुर नैकिन के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार रामपुर नैकिन, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना रामपुर नैकिन क्रमांक-1.

इसके आलावा बीडब्ल्यूईओ एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक, तहसील मझौली के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार मझौली, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना मझौली एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक, तहसील कुसमी के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार कुसमी, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना कुसमी एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक, तहसील सिहावल के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार सिहावल, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना सिहावल एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक तथा तहसील बहरी के उडऩदस्ता दल में तहसीलदार बहरी, संबंधित थाना प्रभारी एवं परियोजना अधिकारी बावि परियोजना बहरी एवं समस्त सेक्टर पर्यवेक्षक सम्मिलित हैं.

कलेक्टर सिंह ने निर्देशित किया है कि उक्त कोर गु्रप एवं सभी उडऩदस्ते अक्षय तृतीया पर बाल विवाह को रोकने के लिए अपने क्षेत्रांतर्गत भ्रमण करेंगे एवं यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र में कोई बाल विवाह संपन्न न हो तथा की गई कार्रवाई का प्रतिवेदन कार्यालय जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास जिला सीधी को भेंजेंगें.