BREAKING NEWS
Search

YES BANK दिवालिया, डूब गया खाताधारको का पैसा

982

भारतीय रिजर्व बैंक ने यस बैंक की हालत नहीं सुधार पाने की वजह से बड़ी कार्रवाई करते हुए बैंक के निदेशक मंडल को भंग कर दिया है…

 

नई दिल्ली: यस बैंक के ग्राहकों के लिए बड़ी खबर है. अब आप अपने यस बैंक के किसी भी तरह के अकाउंट से 50,000 से रुपये ज्यादा नहीं निकाल सकते. जी हां, पचास हज़ार रुपए की लिमिट लग गई है. अगले एक महीने में कुल मिलाकर 50 हजार रुपये ही निकाले जा सकते हैं. RBI ने यस बैंक पर मोराटारियम लगा दिया है. मोराटोरियम का मतलब होता है किसी विशेष समय के लिए संबंधित गतिविधियों या कार्य को रोक देना. यानी बैंक अब न लोन दे सकेगा और न बिना अनुमति के कैश निकाला जाएगा. यस बैंक का मोराटोरियम 5 मार्च से शुरू हो रहा है और अगले 30 दिन तक ये लागू रहेगा।

हालांकि अगर खाता धारकों को 50 हज़ार रुपये से ज्यादा पैसा निकालना है तो इमरजेंसी के लिए शिक्षा, बीमारी, शादी के लिए पैसे निकाले जा सकते हैं. RBI का कहना है कि पैनिक करने की ज़रूरत नहीं है, ग्राहकों का नुकसान नहीं होने दिया जाएगा. अगर 30 दिन के बाद नया बोर्ड बैंक के लिए गठित नहीं होता है तो ये मोराटोरियम बढ़ाया भी जा सकता है.

यस बैंक की वित्तीय हालत बहुत खराब हो गई थी. उसे लगातार घाटा हो रहा था. बैंक पर NPA भी था. कॉर्पोरेट गवर्नेंस से संबंधित गड़बड़ियां पाई गई थीं. इन सबको देखते हुए RBI ने बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट 1949 के तहत कार्रवाई की है. RBI ने बैंक का मौजूदा बोर्ड भंग कर दिया है और अपना एक एडमिनिस्ट्रेटर यस बैंक में बैठा दिया है. एडमिनिस्ट्रेटर का नाम है प्रशांत कुमार जो एसबीआई के पूर्व डिप्टी एमडी रहे हैं.